अनुशील

...एक अनुपम यात्रा

रात्रि स्नेह से सर पर हाथ फेर जाती है...


रात्रि स्नेहमयी है...
भारमुक्त करती है...


सुबह के संघर्ष हेतु पुनः
आस विश्वास की गगरी भरती है...


दिन भर में
फिर रीत जाता है पात्र...
कहीं पहुँचते नहीं
हम भागते ही तो रहते हैं मात्र...


वो साक्षी होती हमारी हार की
वो महसूसती है संतोष हमारी हर जीत का...
वो सहेजती है हमें
और हमारे साथ सहेजा जाता है सबसे अनूठा रंग प्रीत का...


पहले शाम को भेजती है...
और फिर खुद आती है...


रात्रि स्नेह से...
सर पर हाथ फेर जाती है...


स्वप्न खिला रहे
निद्रा का आशीष मिलता रहे सदा...


दिन!
तुम्हारी महिमा...
तब ही तो हम गा पायेंगे यदा कदा... !!

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग के बारे में

"कुछ बातें हैं तर्क से परे...
कुछ बातें अनूठी है!
आज कैसे
अनायास आ गयी
मेरे आँगन में...
अरे! एक युग बीता...
कविता तो मुझसे रूठी है!!"

इन्हीं रूठी कविताओं का अनायास प्रकट हो आना,
"
अनुशील...एक अनुपम यात्रा" को शुरुआत दे गया!

ब्लॉग से जुड़िए!

कविताएँ