अनुशील

...एक अनुपम यात्रा

जीवन आलोकित रहेगा स्वमेव... ... ... !!













कवि...


तुम्हारी रचनाओं में वो अनूठा संसार है
जहाँ जितना भी हताश पहुँचें
कोई न कोई सिरा अपना सा मिल जाता है
शब्दों के झिलमिल प्रकाश में मन का आँगन खिल जाता है


तुम नहीं जानते कितनी आँखों का चमक हैं तुम्हारी रचनायें
कितने आकाश समाहित किये हुए हैं तुम्हारी जीवन की विवेचनायें


यहाँ ईर्ष्या द्वेष का कारोबार है
पर जानना यहीं तुम्हारे पाठकों का भी उज्जवल संसार है


और तुम्हारी रचनाओं से ही नूर है इस उज्जवल संसार की आँखों में


ये दोष दंश देखने वाली आँखों पर निश्चित ही भारी हैं...
तुम्हारी रचनायें जीवन मूल्यों की प्रभारी हैं...


प्रिय कवि...
ऐसे ही रहना सदैव...

जीवन आलोकित रहेगा स्वमेव... ... ... !!

*** *** ***

सुरेश जी, हमेशा की तरह हमें हमारी धृष्टताओं के लिए क्षमा करते रहिएगा... बनी रहे कविता... बना रहे शब्द भाव का सान्निध्य हमेशा हमेशा... !! 




1 टिप्पणियाँ:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 12 दिसंबर 2015 को 11:17 am  

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (13-12-2015) को "कितना तपाया है जिन्दगी ने" (चर्चा अंक-2189) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग के बारे में

"कुछ बातें हैं तर्क से परे...
कुछ बातें अनूठी है!
आज कैसे
अनायास आ गयी
मेरे आँगन में...
अरे! एक युग बीता...
कविता तो मुझसे रूठी है!!"

इन्हीं रूठी कविताओं का अनायास प्रकट हो आना,
"
अनुशील...एक अनुपम यात्रा" को शुरुआत दे गया!

ब्लॉग से जुड़िए!

कविताएँ