अनुशील

...एक अनुपम यात्रा

नमी कहेगी...!


कोई किसी की व्यथा
नहीं कर सकता कम,
नहीं बाँट सकता
कोई किसी का गम...

निज व्यथा
निज ही को सहना है,
कभी नहीं मुख से
कुछ कहना है... 


हाँ, मिले जो कोई
साथ रोनेवाला
लगे कि
कुछ अघटित है होनेवाला
तो होने देना...
जो रोना चाहे कोई साथ
तो संग उसे रोने देना...

गम बांटने का दावा
कितने ही कर जायेंगे...
पर ऐसे कुछ एक ही होंगे जिनकी आँखों में
तुम्हारे आंसू उतर जायेंगे!
वो तुम्हारे गम हर लेने की
बात नहीं करेंगे...
पर उनके होने से तुम्हारे गम
सिर्फ तुम्हारे नहीं रहेंगे!!

कोई एक
अनकहा सम्बन्ध
जुड़ जाएगा...
जब जब तुम रोओगे
मन उसका भी
नम हो जाएगा... 


ये नम आँखों का रिश्ता होगा न
इसकी बात जुदा होगी
आंसू को आंसुओं का साथ मिल जाएगा
जो एक न कह पाए तो वो दूजे की नमी कहेगी 


ये बस इस जहां में ही संभव है
गम हो धरती का तो आसमान रोता है
बादल सारे अनमने हों
तो यहाँ हरियाली का पूरा कुनबा उदास होता है 


जीवन यूँ ही
चलता जाता है...
आंसू का जितना गम से है
उतना ही तो खुशियों से भी नाता है...!!!

9 टिप्पणियाँ:

expression 5 दिसंबर 2013 को 9:18 am  

यही तो यथार्थ है..जीवन का सार है.....

बहुत सुन्दर भाव...
अनु

Anita 5 दिसंबर 2013 को 9:35 am  

मैं नीर भरी दुख की बदली...भावपूर्ण कविता !

Anupama Tripathi 5 दिसंबर 2013 को 11:19 am  

बड़ी गंभीर बातें हैं आज की कविता में ....गहन दर्शन ...बहुत सुंदर रचना ॥

Ashok Saluja 5 दिसंबर 2013 को 1:51 pm  

यह नमी बहुत कुछ कहेगी .....प्रेरक !

Kailash Sharma 5 दिसंबर 2013 को 4:00 pm  

बहुत गहन और सार्थक अभिव्यक्ति...

कालीपद प्रसाद 5 दिसंबर 2013 को 4:56 pm  

किसी के दुःख से यदि आँख नाम हो जाती है तो उसका दुःख कम नहीं होता वरन दुःख का एक और सहभागी हो जाते है ,दुःख सहने की हिम्मत बढ़ जाती है |
नई पोस्ट वो दूल्हा....
latest post कालाबाश फल

Mukesh Pandey 5 दिसंबर 2013 को 5:09 pm  

ये बस इस जहां में ही संभव है
गम हो धरती का तो आसमान रोता है
बादल सारे अनमने हों
तो यहाँ हरियाली का पूरा कुनबा उदास होता है
bahut hi khoobsurat ma'am really

Pallavi saxena 5 दिसंबर 2013 को 6:15 pm  

यही तो जीवन है ...सार्थक भाव लिए गहन भाव अभिव्यक्ति।

Saras 6 दिसंबर 2013 को 3:56 am  

साथ रोनेवाले बड़ी मुश्किल से मिलते हैं...सुख में सब साथ होते हैं.....पर दुःख में अक्सर कतराके गुज़र जाते हैं...ऐसे में वही सच्चा मित्र होता है, आपके दुःख से जिसकी आँखें नम हो जाएँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग के बारे में

"कुछ बातें हैं तर्क से परे...
कुछ बातें अनूठी है!
आज कैसे
अनायास आ गयी
मेरे आँगन में...
अरे! एक युग बीता...
कविता तो मुझसे रूठी है!!"

इन्हीं रूठी कविताओं का अनायास प्रकट हो आना,
"
अनुशील...एक अनुपम यात्रा" को शुरुआत दे गया!

ब्लॉग से जुड़िए!

कविताएँ