अनुशील

...एक अनुपम यात्रा

कल उजाला होगा...!

पुराने पन्ने पलटना उन दिनों तक लौटना है जब उन पन्नों पर यूँ ही कुछ उकेर दिया जाता था... स्कूल के दिनों की तारीखें हैं इस डायरी में, डायरी की अवस्था ठीक नहीं है... कि संभाल कर रखी ही नहीं गयी, पर यादें और अक्षर पूर्ववत हैं... यादों को पुनः जी लेते हैं और पंक्तियों को यहाँ उतार लेते हैं... कि यादें और कवितायेँ... जो भी हों, जैसी भी हों, सहेजी तो जानी ही चाहिए...



उदीयमान सूरज की 

झलक पाने को,
आया समग्र संसार 

शीश नवाने को...


सूर्योदय के बाद 

शुरू होता है संघर्ष,
उषा काल के माधुर्य में 

किसने जाना अभावों का चरमोत्कर्ष...!


क्षण प्रतिक्षण 

बढ़ता जाता ताप,
तिस पर प्रपंचों की 

गहराती पदचाप...


तमतमाता हुआ 

सूरज का रूप,
भरी दुपहरी की 

प्रचंड धूप...


और इन सबके बीच 

अपना अपना सत्य तलाशते हम सब,
धूप में छाँव तलाशते 

अब तब...


बीतती हुई बेला में 

सूरज का ठंडाता कोप,
और हमारा हर पल देना 

अपनी जिम्मेदारियां औरों पर थोप-


यह सब 

दिन भर के व्यापार में है शामिल,
कभी कभी करनी नहीं रहने देती 

सर उठाने के भी काबिल... 


भाग दौड़ में भले-बुरे का चिंतन 

विस्मृत हो चला,
जीवन का दिवालियापन 

हमें अंतिम बेला में खूब खला...


सूरज अपना सामान बाँध 

करने लगा कूच करने की तैयारी,
बस दिवस भर की ही 

तो है उसकी पहरेदारी...! 


दोपहर का ताप 

अब इतिहास हो चला,
बूढा दिवस 

सांझ की चादर ओढ़ ढला...! 


दिनभर की कमाई 

समेटते हुए फुटपाथी,
जीवन की पाठशाला के 

सभी जिज्ञासु सहपाठी... 



घोंसले को लौटता 

परिंदों का समूह,
अन्धकार का 

फैलता ही जाता व्यूह...


बेजान सी सड़कें 

हो कर कोलाहल से हीन,
एक खालीपन से 

बुरी तरह हो क्षीण... 


ढ़लते सूरज को 

विदा करती है,
अनवरत कर्मरत रहने का 

दम भारती है... 


अब दिया सलाई की ओर 

हो लिया जाए मुखातिब,
सूरज की विदाई के बाद भी 

अँधेरे को गले लगाना तो नहीं ही है न वाजिब! 


बस दिन भर की दौड़ भाग के बाद 

अब मिटाई जाए थकान,
दिन भर भागना और सांझ ढले सिमटना... 

यही तो है किस्सा-ए-सुबहो शाम!


फुर्सत कहाँ कि 

चाँद का नज़ारा करें,
अवकाश कहाँ कि 

खुले गगन के विस्तार को निहारा करें... 


सिमटना-कटना ही 

आज दस्तूर है,
सुबहो शाम ये हश्र देख 

रोने को मजबूर हैं! 


कल फिर 

सूरज निकलेगा,
लेकिन कल भी क्या 

किस्सा रुख बदलेगा...???


यह सवाल ही 

बेमानी है,
आखिर गंगाजल को भी तो लोग 

कहने लगे आज पानी है!



पतनोन्मुख परिवर्तन की 

परंपरा अब आम हो गयी,
नवनिर्माण का विगुल नहीं बजा 

और आज फिर शाम हो गयी!


फिर भी हमें लगता है 

कल का सूरज 

निराला होगा,
तमाम वीराने के बावजूद... 

हमें विश्वास है 

कल उजाला होगा!

10 टिप्पणियाँ:

Dr.NISHA MAHARANA 18 अक्तूबर 2013 को 6:32 am  

फिर भी हमें लगता है
कल का सूरज
निराला होगा,
तमाम वीराने के बावजूद...
हमें विश्वास है
कल उजाला होगा! aamin yahi to aash hai .jo jine ka sambal bnta hai ...motivational lines ...

अ-से अनुज 18 अक्तूबर 2013 को 8:54 am  

बढ़िया है ॥

sushma 'आहुति' 18 अक्तूबर 2013 को 10:41 am  

भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया 18 अक्तूबर 2013 को 11:12 am  

फिर भी हमें लगता है
कल का सूरज
निराला होगा,
तमाम वीराने के बावजूद...
हमें विश्वास है
कल उजाला होगा!

बेहतरीन सुंदर भावपूर्ण रचना के लिए बधाई !

RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 18 अक्तूबर 2013 को 3:03 pm  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (19-10-2013) "शरदपूर्णिमा आ गयी" (चर्चा मंचःअंक-1403) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

देवेन्द्र पाण्डेय 18 अक्तूबर 2013 को 4:21 pm  

कभी कभी पुरानी डायरी पलटते हुए कोई पुराना लिखा पढ़कर बहुत खुशी होती है। खुद पर ही शंका होने लगती है कि तब हम अधिक अच्छा लिखते थे क्या? मुझे लगता है कि वास्तव में हम लिखते नहीं, बस लिखने का शौक पालते हैं। अच्छा-बुरा तो वक्त लिखवा देता है।

भले कहते हों कि आशा और विश्वास की रखने के लिए कोई उम्र मोहताज नहीं होती लेकिन संघर्ष करते रहने की प्रेरणा और उजाले का विश्वास लिए लेखन शायद उम्र ही लिखवा पाता है।

ई. प्रदीप कुमार साहनी 18 अक्तूबर 2013 को 8:56 pm  

प्रभावशाली रचना |

मेरी नई रचना:- "झारखण्ड की सैर"

Anita 19 अक्तूबर 2013 को 5:33 am  

आशा का दमन थमाती पंक्तियाँ..

Anupama Tripathi 19 अक्तूबर 2013 को 5:45 am  

तमाम वीराने के बावजूद...
हमें विश्वास है
कल उजाला होगा!
सशक्त और सुंदर आस .....बनी रहे .....

निहार रंजन 20 अक्तूबर 2013 को 2:20 am  

बहुत सुन्दर रचना. कई भावो को समेटे, कई रंगों से आशना कराती..आस जगाती.

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग के बारे में

"कुछ बातें हैं तर्क से परे...
कुछ बातें अनूठी है!
आज कैसे
अनायास आ गयी
मेरे आँगन में...
अरे! एक युग बीता...
कविता तो मुझसे रूठी है!!"

इन्हीं रूठी कविताओं का अनायास प्रकट हो आना,
"
अनुशील...एक अनुपम यात्रा" को शुरुआत दे गया!

ब्लॉग से जुड़िए!

कविताएँ